ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

देश एवं राजनीति

राफेल मुद्दे पर अब सीता पर है राहुल की वक्र दृष्टि!
राहुल बोले डसाल्ट को २० हजार करोड़ दिया और एचसीएल का बकाया क्यों?

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, ८ जनवरी २०१९

राहुल गांधी ने राफेल मुद्दे पर आज फिर रक्षा मंत्री को जमकर घेरा। संसद भवन परिसर में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि रक्षा मंत्री ने संसद में ढाई घंटे का भाषण दिया। उन्होंने संसद में कहा था - इस सरकार ने HAL को एक लाख करोड़ रुपए दिए हैं। हमने उस बात को चैलेंज किया और आज उनकी स्टेटमेंट में उन्होंने कहा कि 26,570 करोड़ रुपए HAL को दिए गए हैं। मतलब निर्मला सीतारमन जी ने संसद में सीधा झूठ बोला। दूसरे भी दो-तीन झूठ बोले हैं और मैंने उनसे एक सवाल पूछा, सिंपल सा सवाल है।


मैं फिर से पूछता हूं, नरेन्द्र मोदी से और निर्मला सीतारमन से पूछता हूं - जब नरेन्द्र मोदी जी ने राफेल कॉन्ट्रैक्ट को रद्द करके बाईपास सर्जरी की थी और 126 की बजाए 36 हवाई जहाज का नया कॉन्ट्रैक्ट तैयार किया था, तो डिफेंस मिनिस्ट्री के सीनियर लोगों ने, एयरफोर्स के सीनियर लोगों ने नरेन्द्र मोदी जी के इंटरफेयरेंस पर ऑब्जेक्शन किया था? हाँ या ना? राहुल ने कहा कि मैंने ये सवाल निर्मला सीतारमन जी से संसद में पूछा, उन्होंने बहुत लंबी बहाने की कहानी बताई कि मेरा मीडिल क्लॉस बैकग्राउंड है, वो भी झूठ था। मगर हाँ और ना का जवाब निर्मला सीतारमन जी ने नहीं दिया। मैं फिर से रिक्वेस्ट करता हूं निर्मला सीतारमन जी से, नरेन्द्र मोदी जी से, आप मेरे सवाल का जवाब दीजिए।

जब आपने बाईपास सर्जरी की, 126 से 36 हवाई जहाज का कॉन्ट्रैक्ट बदला, क्या एयरफोर्स के सीनियर लोगों ने, डिफेंस मिनिस्ट्री के सीनियर लोगों ने आपके इंटरफेयरेंस पर ऑब्जेक्शन किया था? हाँ या ना? हम और कुछ नहीं मांग रहे हैं, हमें केवल आप एक शब्द में जवाब दे दीजिए - हाँ कह दीजिए या ना कह दीजिए।


राहुल ने कहा कि निर्मला सीतारमन जी ने कहा कि वो HAL की मदद कर रहे हैं। छोटा सा सवाल है - दसॉल्ट कंपनी ने भारत को एक भी हवाई जहाज डिलिवर नहीं किया है, आज तक एक भी हवाई जहाज नहीं आया है। दसॉल्ट कंपनी को 20,000 करोड़ रुपए हिंदुस्तान की सरकार ने पेमेंट दे दिया है। HAL कंपनी हवाई जहाज डिलिवर कर चुकी है, हैलिकॉप्टर डिलिवर हो गए हैं और 15,700 करोड़ रुपए उनका पैसा आप उनको नहीं दे रहे हैं, उनका देय (due) है। अनिल अंबानी की सहयोगी विदेशी कंपनी को 20,000 करोड़ रुपए बिना एक हवाई जहाज बनाए आप दे देते हैं और पब्लिक सेक्टर कंपनी हैलिकॉप्टर बनाकर आपको दे दे, हवाई जहाज बनाकर आपको दे दे, आप उनका पैसा उनको नहीं दे रहे हैं? क्यों, क्या कारण है? इसका भी जवाब दे दीजिए?


मुख्य मुद्दा, यहाँ मैं फिर से युवाओं को बताना चाहता हूं, ये आपका पैसा है, ये अनिल अंबानी का पैसा नहीं है और जो डिफेंस मिनिस्टर का ढाई घंटे का भाषण, उनको डिफेंस मिनिस्टर नहीं कहना चाहिए, उनको डिफेंस मिनिस्ट्री का स्पोक्सपर्सन कहना चाहिए, नरेन्द्र मोदी जी का प्रवक्ता कहना चाहिए। जो उन्होंने ढाई घंटे का भाषण दिया, उसमें उन्होंने दो-तीन चीजें नहीं कही। सबसे पहले उन्होंने मेरे सवाल का ‘हाँ’ और ‘ना’ में जवाब नहीं दिया। दूसरा, उन्होंने ये नहीं बताया कि 30,000 करोड़ रुपए अनिल अंबानी की कंपनी को किस आधार पर दिए गए और इन सवालों का जवाब अभी तक नहीं मिला है।

भाईयों और बहनों आपने देखा कि देश के जो चौकीदार हैं, वो लोकसभा में नहीं आ सकते हैं। लोकसभा में आने से डरते हैं, राफेल के मुद्दे पर संसद में खड़े नहीं हो सकते हैं। अगर नरेन्द्र मोदी जी मेरे साथ डिबेट कर लें, मेरे साथ 15 मिनट बहस कर लें, नरेन्द्र मोदी जी के साथ मुझे 15 मिनट दे दो, 16 वां मिनट नहीं चाहता हूं, पूरे देश को समझ आ जाएगा राफेल में क्या है। नहीं आ सकते हैं वो, क्योंकि चौकीदार ने चोरी कराई है। एक प्रश्न पर के उत्तर में गांधी ने कहा कि सबसे पहले निर्मला सीतारमन ने साफ झूठ बोला है, लोकसभा में साफ झूठ बोला है कि एक लाख करोड़ रुपए के ऑर्डर हमने HAL को दिए हैं, उन्हीं की स्टेटमेंट में आज वो कह रही हैं 26,570 करोड़ और उन्हीं की स्टेटमेंट में उन्होंने कहा है कि ये जो बाकी 73,000 करोड़ रुपए हैं। इनका Technically Evaluation हो रहा है, Technically Evaluation का मतलब पैसा नहीं होता है। तो साफ तौर से झूठ बोल रही हैं और वो तो डिस्ट्रैक्शन वाला झूठ था, वो तो देश की नजर को उधर करने का झूठ था।


मुख्य जो उन्होंने झूठ बोला, जब मैंने हाँ और ना में सवाल पूछा, उन्होंने ड्रामा शुरु कर दिया, मुझे humiliate (अपमानित) किया, मैं मिडिल क्लास की हूं। सबसे पहले वो मिडिल क्लास की नहीं है, मगर वो अलग बात है। हमारे सवाल हैं, उसका आप जवाब दीजिए और मैं ये नहीं कह रहा हूं कि दो पैराग्राफ का जवाब दो, मैं ये नहीं कह रहा हूं कि आप दो घंटे का भाषण दो, मैं सिर्फ कह रहा हूं, आप ‘हाँ’ या ‘ना’ बोल दीजिए। हमारे जो प्रेस के मित्र हैं, रक्षा मंत्री से पूछिए आप।

राहुल ने कहा कि नरेन्द्र मोदी ने राफेल कॉन्ट्रैक्ट को बाईपास किया है। 526 करोड़ रुपए प्रति हवाई जहाज की दर से 126 हवाई जहाज का कान्ट्रैक्ट था और नरेन्द्र मोदी जी ने उसे कैंसिल किया और नया कॉन्ट्रैक्ट तैयार किया, 1,611 करोड़ रुपए की दर से और 36 हवाई जहाज। रक्षा मंत्री जी ने खुद कहा कि मैंने नहीं किया। मतलब जो डिफेंस मिनिस्ट्री का जो सीनियर मोस्ट आदमी है, उसने कह दिया, मैंने नहीं किया, मतलब एक ही आदमी कर सकता है - नरेन्द्र मोदी। अब लोगों ने नेगोसियेशन किया, आठ साल, दस साल नेगोसियेशन चल रहा था, जिन लोगों ने नेगोसियेशन किया, उनको एतराज हुआ होगा कि प्रधानमंत्री जी ने ये कैसे कर दिया? हमारा काम रद्द कर दिया।


जरा ठहरें...
प्रधानमंत्री मोदी बोले, कांग्रेस ने उन्हें 12 सालों तक किया परेशान!
राफेल पर सीता का जवाब, जेटली ने दी शाबासी!
आगस्ता मामला: उलटा चोर कोतवाल को डांटे - कांग्रेस
उत्तर प्रदेश में कोई सुरक्षित नहीं, जंगलराज है - कांग्रेस
संसद शीत सत्र का पहला सप्ताह राफेल के भेंट चढ़ गया
प्रधानमंत्री केएमपी एक्सप्रेस वे का किया उद्घाटन
राफेल के सौदे में प्रधानमंत्री किसी भी प्रोसीजर का फॉलो नहीं किया
नोटबंदी से सिर्फ एक ही परिवार रो रहा है - मोदी
राजमार्गों के निलामी से 10 हजार करोड़ रूपए मिलने की उम्मीद - गड़करी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कॉल ड्रॉप से हैं परेशान
वॉपकॉस ने 1110 करोड़ रुपये की अब तक सर्वाधिक आय अर्जित की!
भाजपा का 18 राज्यों में शासन, फिर भी एक करोड़ मत घटा
अमित शाह के बेटे के भ्रष्टाचार पर क्यों नहीं बोलते हैं मोदी - राहुल
राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण राजमार्गों पर 'हाईवे नेस्ट' नामक रेस्त्रा का संचालन करेगा
प्रधानमंत्री मोदी जादूगर हैं वे जनता को ट्रिक कर रहे हैं - राहुल गांधी
रेल इंजीनियरिंग की अद्भुत रचना है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल
देश की सबसे बड़ी सुरंग देश को समर्पित, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.