ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

देश एवं राजनीति

ई कॉमर्स पालिसी पर काम जारी, जल्द होगी घोषित -सुरेश प्रभु

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

३ जनवरी २०१९

सरकार द्वारा हाल ही में ई कॉमर्स में एफडीआई पालिसी को और अधिक स्पष्ट किये जाने का विरोध करने के लिए अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट के एक ही मंच पर आने की ख़बरों को कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने निहित स्वार्थों वाले तत्वों द्वारा किया जाने वाला आर्थिक आतंकवाद बताया है ! कैट ने अफ़सोस व्यक्त करते हुए कहा की फिक्की और सीआईआई जैसे उद्योग संगठनों के भी उनके समर्थन में आने की खबर भी बेहद निराशाजनक है और सीधे तौर पर सरकार की नीतियों के साथ टकराव है।


कैट ने कहा की जब ये कंपनियां खुले आम ई कॉमर्स व्यापार में अस्वस्थ रूप से माल बेच रही थी तब ये संगठन चुप क्यों थे। ऐसा प्रतीत होता है की इन संगठनों का भी निजी स्वार्थ इन कंपनियों के साथ जुड़ा है। इसी बीच कैट का एक प्रतिनिधिमंडल कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल के नेतृत्व में केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु से मिला और इस मुद्दे पर व्यापारियों के पूर्ण समर्थन सरकार को देने का आश्वासन दिया और यह भी कहा की किसी भी दबाव में पालिसी में ऐसी कोई फेरबदल न की जाए जिससे ई कॉमर्स व्यापार में असंतुलित प्रतिस्पर्धा हो और अस्वस्थ तरीके से व्यापार हो एवं  इन कंपनियों की मंशा पूरी हो ! देश भर के व्यापारी ऐसे किसी भी फेरबदल का पुरजोर विरोध करेंगे।

सुरेश प्रभु ने प्रतिनिधिमंडल से बातचीत करते हुए कहा की सरकार बहुत तेजी से ई कॉमर्स की एक समग्र नीति बनाने पर काम कर रही और जल्द ही ई कॉमर्स पालिसी घोषित होगी ! उन्होंने यह भी कहा की सरकार ई कॉमर्स व्यापार में संतुलित एवं बराबरी की प्रतिस्पर्धा को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबध्द है और किसी प्रकार की भी अस्वस्थ व्यापारिक तरीके स्वीकार नहीं होंगे ! उन्होंने यह भी कहा की ई कॉमर्स एक बढ़ता हुआ भविष्य का व्यापार है जिसमें सभी को बराबरी का मौका मिलना चाहिए और उपभोक्ताओं को उचित दामों पर सही गुणवत्ता का सामान मिलना चाहिए ! उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा की सरकार देश में छोटे व्यापारियों को व्यापार करने के अधिक एवं बेहतर अवसर प्रदान करने के सारे प्रयास कर रही है और व्यापारी वर्ग की सभी समस्याओं का हल तार्किक रूप से किया जाएगा।


खंडेलवाल ने कहा सरकार द्वारा ई कॉमर्स में एफडीआई पालिसी पर स्पष्टीकरण के बाद  ऐमज़ॉन एवं फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों में खलबली मची हुई है क्योंकि जिस तरीके से ये कामोनियाँ व्यापार कर रही है अब उस तरीके से व्यापार करना संभव नहीं होगा इसलिए निहित स्वार्थों वाली कंपनियां एक दुसरे के साथ मिलकर पालिसी का विरोध कर रही हैं क्योंकि व्यापार उनके हाथ से खिसक जाएगा।




जरा ठहरें...
भाजपा ने पहली ही सूची में अपने भीष्म पितामह का किया पत्ता साफ!
मोदी बहुरुपिया बनकर देश को ठगना चाहते हैं - कांग्रेस
"राहुल गांधी को इतनी खुशी क्यों होती है"
Exclusive: भाजपा के एक तिहाई मौजूदा सांसदों का पत्ता होगा साफ, शुरूआत दिल्ली से
पुलवामा घटना के बाद सारे मुद्दे हुए गौड़, भाजपा हुई खुश?
'कांग्रेस की आदत सभी संवैधानिक संस्थाओं का अपमान करना है - प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री मोदी बोले, कांग्रेस ने उन्हें 12 सालों तक किया परेशान!
राफेल पर सीता का जवाब, जेटली ने दी शाबासी!
आगस्ता मामला: उलटा चोर कोतवाल को डांटे - कांग्रेस
उत्तर प्रदेश में कोई सुरक्षित नहीं, जंगलराज है - कांग्रेस
संसद शीत सत्र का पहला सप्ताह राफेल के भेंट चढ़ गया
प्रधानमंत्री केएमपी एक्सप्रेस वे का किया उद्घाटन
राफेल के सौदे में प्रधानमंत्री किसी भी प्रोसीजर का फॉलो नहीं किया
नोटबंदी से सिर्फ एक ही परिवार रो रहा है - मोदी
राजमार्गों के निलामी से 10 हजार करोड़ रूपए मिलने की उम्मीद - गड़करी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कॉल ड्रॉप से हैं परेशान
वॉपकॉस ने 1110 करोड़ रुपये की अब तक सर्वाधिक आय अर्जित की!
भाजपा का 18 राज्यों में शासन, फिर भी एक करोड़ मत घटा
अमित शाह के बेटे के भ्रष्टाचार पर क्यों नहीं बोलते हैं मोदी - राहुल
राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण राजमार्गों पर 'हाईवे नेस्ट' नामक रेस्त्रा का संचालन करेगा
प्रधानमंत्री मोदी जादूगर हैं वे जनता को ट्रिक कर रहे हैं - राहुल गांधी
रेल इंजीनियरिंग की अद्भुत रचना है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल
देश की सबसे बड़ी सुरंग देश को समर्पित, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.